घोडासन व चादर गैंग का एक लाख रुपये का इनामी महाराष्ट्र से गिरफ्तार।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

संवादसूत्र देहरादून: ज्वालापुर हरिद्वार में लाखों रुपये की चोरी के मामले में 2018 से फरार चल रहे घोड़ासन व चादर गैंग के एक लाख के ईनामी गैंग लीडर को एसटीएफ़ ने महाराष्ट्र से गिरफ्तार कर लिया है। एसटीएफ़ के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक आयुष अग्रवाल ने बताया घोड़ासन गैंग के कई सदस्य काफी समय से वांछित चल रहे थे। गैंग के सदस्यों ने उत्तराखण्ड के अलावा कई राज्यों में कई बड़े मोबाईल, लैपटाॅप के ब्रान्डेड शोरूमों से चोरी की घटनाओं को अंजाम दिया था।

पूर्वी चंपारण बिहार के पास घोडासन व चादर गैंग के सदस्य गिरोह बनाकर अपने राज्य से बाहर अलग-अलग राज्यों के बड़े शहरों में अपना गैंग लेकर चलते है व शहर के बाहर होटल किराए पर लेते हैं। फिर उस शहर में घटना घटित करने के लिये पहले किसी बड़ी ब्रान्डेड मोबाईल फोन व इलैक्ट्रानिक गैजेट्स की कम्पनी के शोरूम को चिन्हित करते है। उसके बाद रात्रि में उस शोरूम के बाहर चादर लगाकर गिरोह के सदस्य खड़े होते हैं और इस चादर की आड़ में एक सदस्य शोरूम का शटर उठाकर अन्दर जाता है, वहां से लाखों रूपये के कीमती मोबाईल फोन,लैपटाॅप आदि मंहगे गैजेट्स को चोरी कर गैंग के सदस्यों के साथ फरार हो जाते हैं।
इसके बाद के मोबाईल फोन व अन्य कीमती इलेक्ट्राॅनिक सामान को नेपाल जाकर बेच देते हैं, जिससे वे सर्विलान्स से ट्रैक नहीं हो पाते हैं। इस गैंग के सदस्यों का एक जगह ठिकाना नहीं रहता हैं, जिस कारण से इनकी आसानी से गिरप्तारी संभव नहीं हो पाती है।
गैंग के सदस्यों ने ज्वालापुर से वर्ष 2018 में एप्पल मोबाइल शोरूम से लाखों की चोरी की घटना को अंजाम देकर फरार शातिर अपराधी राजूदास उर्फ राजू निवासी ग्राम घोडासन, जिला चंपारण,बिहार जोकि एक लाख का इनामी है, पिछले 4 सालों से थाना ज्वालापुर में दर्ज मुकदमे में फरार चल रहा था। पुलिस मुख्यालय उत्तराखण्ड की ओर से गिरपतारी पर एक लाख रूपये का ईनाम रखा गया था।
एसटीएफ़ को सूचना मिली कि गिरोह के सदस्य महाराष्ट्र में किसी बड़ी घटना को अंजाम देने वाले हैं। एसटीएफ के एक टीम को 21 दिसम्बर को सिरडी महाराष्ट्र भेजा गया, वहां पर आरोपित राजूदास को गिरफ्तार किया गया।