कोरोना से जंग के लिये प्रवासियों ने बढ़ाये हाथ।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नौटी गांव की संजना कैलखुरा रतूड़ी और दीपक नौटियाल ने अमेरिका से कर्णप्रयाग भेजे कोरोना किट।

जी हाँ देश में इस वक़्त कोरोना महामारी की वजह से सभी अपनों के लिये चिंतित है, वैसे ही विदेशों में रह रहे वो भी यहाँ रह रहे अपने परिजनों के लिये चिंतित होंगे.. इस महामारी ने जिस तरह से अपने पाँव पसारे उसकी वजह से देश की स्वास्थ्य ब्यवस्था बुरी तरह डगमगा गई.. देश में सभी तरह से दवाइयों की कमी होने लगी,, भले सरकार अपनी तरह से पूरी कोशिश में जुटी रही.. पर फिर भी पहाड़ों तक कई सुविधाएँ इस महामारी से निपटने हेतु पर्याप्त नहीं थे,,,और जहाँ देश में कई लोग अपनी सामर्थ्यानुसार आगे आये बिलकुल इसी तरह विदेशों में रह रहे हमारे प्रवासीय हिंदुस्तानी भी बढ़चढ़कर आगे आये हैं।
इन सबमें जिस तरह इस महामारी की रोकथाम के लिए अमेरिका में रहने वाले प्रवासी भारतीयो ने मदद के लिए हाथ आगे बढाये है वो सराहनीय है। इस बाबत कर्णप्रयाग के शिक्षक अालोक नौटियाल ने बताया कि माँ नंदा के मायके नौटी की संजना कैलखुरा रतूड़ी और दीपक नौटियाल ने अमेरिका से कोरोना किट भेजकर अपनी माटी के प्रति स्नेह व दया का भाव साबित कर दिखाया है । अमेरिका के न्यू जर्सी में रहने वाले प्रवासियों की मदद से भेजी गई कोरोना किट उपजिला जिला अस्पताल कर्णप्रयाग के अधीक्षक डॉ0 राजीव शर्मा को सौपी गई , इस अवसर पर डॉक्टर राजीव शर्मा ने कहा कि “मैं प्रवासी भारतीय का ह्दय से धन्यवाद देना चाहता हूं कि आपने सात समुन्दर पार रहकर अपनी माटी के प्रति प्रेम को देखते हुए मदद के लिए हाथ आगे बढ़ाए है । “प्रवासी दीपक नौटियाल के बड़े भाई विजय नौटियाल व प्रवासी संजना कैलखुरा रतूड़ी के भाई शिक्षा विभाग से सेवानिवृत्त उमेश कैलखुरा , और शिक्षक आलोक नौटियाल का इन प्रयासों में विशेष योगदान रहा।
इसके साथ ही अमेरिका में रहने वाली प्रवासी भारतीय संजना कैलखुरा रतूड़ी से प्रोत्साहित होकर उनकी उनकी बेटी विधात्री रतूड़ी व दीपक नौटियाल की बेटी ईशानी नौटियाल ने कोरोना महामारी की रोकथाम के लिए उत्तराखंड की मदद किये जाने को लेकर न्यू जर्सी में रहने वाले प्रवासी उत्तराखंडियो से 15000 डॉलर इकट्ठा कर यह सामग्री उत्तराखंड भेजी है , जो कि राज्य के विभिन्न अस्पतालों के माध्यम से जनता तक भेजी जा रही है । इस कोरोना किट में मास्क , सेनेटाइजर , दवाइयां , ऑक्सीमीटर व अन्य सामग्री है ।
कोरोना संक्रमण के कारण ऑक्सीजन की कमी से जूझ रहे लोगो के लिए प्रवासियों द्वारा कर्णप्रयाग भेजे गए दो ऑक्सीजन कन्सन्ट्रेटर मशीन संजीवनी का काम करेंगे , जी हां हम ऐसा इसलिए कह रहे है क्योंकि चमोली जिले के नौटी की रहने वाली संजना कैलखुरा रतूड़ी द्वारा अपने पिता स्व0 श्री देवी प्रसाद कैलखुरा की पुण्य स्मृति में अमेरिका से भेजे गए दो ऑक्सीजन कन्सन्ट्रेटर सीएचसी कर्णप्रयाग के अधीक्षक डॉक्टर राजीव शर्मा को सौप दिए गये है , इस मौके पर मौजूद डॉक्टर राजीव शर्मा ने बताया कि हमारे आस पास हवा में कई तरह की गैसे होती है ,ऑक्सीजन कन्सन्ट्रेटर वह मशीन है जो हवा में से अन्य गैसों को अलग कर शुद्ध ऑक्सीजन सप्लाई करने का कार्य करता है ।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *