पंजाब के पठानकोठ बम ब्लास्ट के आतंकी को शरण देने वाले चार लोग गिरफ्तार।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें
  • तीन ऊधम सिंह नगर और एक रामुपर का है, मुकदमा दर्ज कर चारों को भेजा जेल

सँवादसूत्र देहरादून/ रुद्रपुर: पंजाब के पठानकोट में साल 2021 तीन अहम स्थानों पर हुए बम धमाके के मुख्य आरोपी एवं साजिशकर्ता को पनाह देने वाले चार आरोपियों को कुमाऊं की एसटीएफ ने बाजपुर के कैलाखेड़ा से गिरफ्तार कर लिया है। पकडे़ गए आरोपियों से एक .32 बोर की पिस्टल और एक कार भी बरामद की है। डीआईजी एवं ऊधमसिहनगर के एसएसपी ने खुलासा करते हुए बताया कि पंजाब का बम धमाकाकांड राष्ट्रीय सुरक्षा से जुड़ा एक मामला है। जिसके बाद से सुरक्षा एजेंसियां हाई अलर्ट मोड पर आ गई थी।

पकड़े गए सभी आरोपियों से पूछताछ के बाद कई अहम जानकारियां भी मिली है। इसकी सूचना देश-प्रदेशों की सुरक्षा एजेंसियों को सांझा की गई हैं। शनिवार को पुलिस कार्यालय में खुलासा करते हुए एसएसपी बरिंदरजीत सिंह ने बताया कि नवंबर 2021 को पंजाब प्रांत के पठानकोट, लुधियाना व नवाशहर में तीन बम धमाकों ने पूरे प्रदेश को दहला दिया था। जिसके बाद से देश-प्रदेशों की सुरक्षा एजेंसियों ने प्रदेशों को अलर्ट करते हुए उत्तराखंड एसटीएफ को अहम जानकारी दी थी।

और पढ़ें  जहर खाने से मां-बेटे की मौत, पुत्री गंभीर।

सुरक्षा एजेंसी का मानना था कि बम धमाकों के साजिशकर्ता सुखप्रीत उर्फ सुख का नाम सामने आया था और वारदात को अंजाम देने के बाद साजिशकर्ता गांव रामनगर थाना केलाखेड़ा व मूल निवासी गांव कालेके थाना खलचिंया अमृतसर निवासी शमशेर सिंह उर्फ शेरा उर्फ साबी,रामनगर केलाखेड़ा निवासी हरप्रीत सिंह उर्फ हैप्पी,गोलू टांडा थाना स्वार राम पुर यूपी निवासी गुरपाल सिह उर्फ गुरी ढिल्लो और गांव बैतखेड़ी बाजपुर निवासी अजमेर सिंह मंड उर्फ लाड़ी के संपर्क में आया और वारदात को अंजाम देने के बाद कुछ दिनों तक आरोपियों की शरण में था।

और पढ़ें  पहाड़ की महिलाओं के सर से घास का बोझ कम होगा

लेकिन एसटीएफ की सक्रियता की भनक लगने के बाद मुख्य आरोपी उत्तराखंड से भी फरार हो चुका था। डीआईजी-एसएसपी ने बताया कि बीती रात एसटीएफ की टीम ने दंबिश देकर चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया और उनके कब्जे से एक 32बोर की पिस्टल व फोड फिगो कार संख्या डीएल-12सीबी1269 को भी बरामद कर खुलासा कर दिया है। पकड़े गए आरोपियों से एसटीएफ और पुलिस को कई अहम जानकारी भी मिली है। जिसके बाद यह दावा किया जा रहा है कि विदेशों में बैठे गैंगस्टरों के इशारे पर पकड़े गए आरोपी अपना नेटवर्क खड़ा करने की कोशिश कर रहे है।