रानीखेत के मीना बाजार में भीषण आग, 11 दुकानें खाक।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

संवादसूत्र रानीखेत (अल्मोड़ा): नगर का मीना बाजार का बड़ा हिस्सा आग से खाक हो गया। शाट सर्किट से उठी चिंगारी ने पहले एक दुकान को चपेट में लिया। कुछ ही देर में सिलिंडर फटने से देखते ही देखते बाजार की 11 दुकानें आग की भेंट चढ़ गई। स्थानीय लोगों की मदद से पुलिस व दमकल कर्मियों ने तीन घंटे की मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। हादसे में करीब एक करोड़ रुपये की क्षति का अनुमान है। 

और पढ़ें  महाविद्यालयों में नियुक्त होगी शतप्रतिशत फैकल्टीः धन सिंह रावत।

अग्निकांड तड़के करीब साढ़े तीन बजे हुआ। नगर स्थित मीना बाजार लपटों से घिर गया। धू धू कर जलती एक दुकान में रखा गैस सिलिंडर फटा तो धमाके से आसपास के लोग जाग गए। तत्काल फायर ब्रिगेड व कोतवाली में सूचना दी गई। बाजार के सभी लोग मौके की तरफ दौड़ पड़े। मगर हालात बेकाबू हो चले थे। तीन दमकल वाहनों के जरिये लपटों को शांत करने की जद्दोजह शुरू हुई। स्थानीय लोगों ने भी आग बुझाने में हाथ बंटाया। लगभग तीन घंटे तक जूझने के बाद 32 दुकानें तो बचा ली गईं। मगर परचून, मोबाइल, साइकिल स्टोर, फास्ट फूड व मोटर पार्ट्स आदि समेत 11 दुकानें खाक हो चुकी थीं। 

और पढ़ें  कोरोना की नई संशोधित गाइड लाइन जारी।

मीना बाजार में भीषण अग्निकांड से प्रभावित व्यापारियों को मुआवजे के लिए ब्लॉक प्रमुख हीरा सिंह रावत की अगुआई में शिष्टमंडल मुख्य अधिशासी अधिकारी कैंट बोर्ड नागेश कुमार पांडेय व एसडीएम गौरव पांडे से मिला। ब्लॉक प्रमुख ने कहा कि प्रभावित व्यापारियों की आजीविका इन्हीं दुकानों से चलती थी। प्रतिष्ठानों के अग्निकांड की भेंट चढऩे से रोजीरोटी का संकट पैदा हो गया है। दोनों ही अधिकारियों ने ठोस पहल का भरोसा दिलाया। शिष्टमंडल में पूर्व ब्लॉक प्रमुख रचना रावत, व्यापार मंडल अध्यक्ष मनीष चौधरी, उपाध्यक्ष दीपक पंत आदि शामिल रहे।

Leave a Reply

Your email address will not be published.