WHO की चीफ साइंटिस्ट ने कहा,नए वैरिएंट के खिलाफ मास्क ही वैक्सीन, भीड़ भरे आयोजनों से बचें।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

संवादसूत्र: विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की प्रमुख वैज्ञानिक डॉक्टर सौम्या स्वामीनाथन ने कोविड-19 के नए वैरिएंट को लेकर कहा है कि ये भारत में कोरोना के सही व्यवहार को समझने के लिए ‘वेक अप कॉल’ हो सकता है। एक मीडिया हाउस को दिए गए इंटरव्यू में स्वामीनाथन ने हर संभव सावधानी बरतने और मास्क लगाने की जरूरत पर बल दिया है ।

WHO की प्रमुख वैज्ञानिक ने मास्क लगाने और सावधानी बरतने पर जोर दिया है। आपकी क्या राय है?

अकेले मास्क से सुरक्षा नहीं होगी, वैक्सीनेशन बढ़ाना होगा सरकार को फिर लॉकडाउन लगाने के बारे में सोचना चाहिए वायरस के नए वैरिएंट के मुताबिक वैक्सीन अपडेट करनी चाहिए मास्क ही कोरोना के खिलाफ सबसे बड़ा हथियार WHO की वैज्ञानिक सौम्या स्वामीनाथन ने कहा कि कोविड-19 के नए वैरिएंट के खिलाफ मास्क ही सबसे बड़ा हथियार है। उन्होंने कहा कि मास्क जेब में रखी वैक्सीन है, जो आपको कोरोना से बचाएगी। इसलिए मास्क लगाकर रखें। भीड़ में जाने से बचें इसके अलावा WHO की प्रमुख वैज्ञानिक ने नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के खिलाफ जंग में वयस्कों के टीकाकरण, सामूहिक समारोहों से दूरी और मामलों में असामान्य बढ़त पर बारीकी से नजर रखने जैसे सुझाव दिए हैं।

और पढ़ें  सेंट्रो कार से पांच पेटी शराब बरामद,एक गिरफ्तार।

डेल्टा की तुलना में ज्यादा खतरनाक होने की आशंका स्वामीनाथन ने कहा कि यह वैरिएंट डेल्टा की तुलना में अधिक संक्रामक हो सकता है। हालांकि अभी तक आधिकारिक रूप से कुछ भी नहीं कहा जा सकता है। उन्होंने कहा कि हम कुछ दिनों में इसके बारे में और जानकारी हासिल कर लेंगे। स्वामीनाथन ने अन्य कोविड वैरिएंट्स के साथ ओमिक्रॉन की तुलना के बारे में कहा कि नए वैरिएंट के बारे में सटीक जानकारी हासिल करने के लिए हमें और अधिक स्टडी करने की जरूरत है।

और पढ़ें  शादी का झांसा देकर दुष्कर्म का आरोपित गिरफ्तार।

ओमिक्रॉन को ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’ कैटेगरी में रखा दक्षिण अफ्रीका में मिले कोरोना के नए वैरिएंट ने दुनियाभर में हड़कंप मचा दिया है। कहा जा रहा है कि ये नया वैरिएंट डेल्टा से भी ज्यादा खतरनाक है। WHO ने इस वैरिएंट को ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’ की कैटेगरी में रखा है। बता दें कि जब वायरस के किसी वैरिएंट की पहचान होती है तो उस वैरिएंट को और ज्यादा जानने-समझने के लिए WHO इसकी निगरानी करता है । निगरानी करने के लिए वायरस को वैरिएंट ऑफ इंटरेस्ट की कैटेगरी में डाला जाता है। अगर वायरस की स्टडी में पाया जाता है कि वैरिएंट तेजी से फैल रहा है और बहुत संक्रामक है तो उसे ‘वैरिएंट ऑफ कंसर्न’ की कैटेगरी में डाला जाता है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.