नवरात्र विशेष: माँ कुंजापुरी।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

वीडियो: साभार सचिन भंडारी।

यह माता दुर्गा का मंदिर है, यह शिवालिक रेंज में तेरह शक्ति पीठों में से एक है और जगदगुरु शंकराचार्य द्वारा उत्तराखंड के टिहरी जिले में स्थापित तीन शक्ति पीठों में से एक है।
कुंजापुरी मंदिर एक पौराणिक एवं पवित्र सिद्ध पीठ के रूप में विख्यात है , यह स्थल केवल देवी देवताओं से संबंधित कहानी के कारण ही नहीं बल्कि यहाँ से गढ़वाल की हिमालयी चोटियों के विशाल दृश्य के लिए भी प्रसिद्ध है, यहाँ से हिमालय पर्वतमाला के सुंदर दृश्य हिमालय के स्वर्गारोहनी, गंगोत्री, बंदरपूँछ, चौखंबा और भागीरथी घाटी के ऋषिकेश, हरिद्वार और दूनघाटी के दृश्य दिखाई देते हैं । यह नरेंद्र नगर से 7 किमी, ऋषिकेश से 15 किमी और देवप्रयाग से 93 किमी और समुद्र से 1,665 मीटर पर यह स्थित है।

और पढ़ें  विधानसभा अध्यक्ष ने गोहरीमाफी क्षेत्र में सडक निर्माण कार्य का किया निरीक्षण।

जिले के अन्य दो शक्ति पीठो में एक सुरकंडा देवी का मंदिर और चन्द्रबदनी देवी का मंदिर हैं। कुंजापुरी, इन दोनों पीठों के साथ एक पवित्र त्रिकोण बनाता हैं। शक्ति पीठ उन जगहों पर हैं जहां भगवान् शिव द्वारा बाहों में हिमालय की ओर ले जा रहे देवी सती (भगवान् शिव की पत्नी एवं राजा दक्ष की पुत्री) के मृत शरीर के अंग गिरे थे। यहां उनके शरीर के ऊपरी भाग, यानि कुंजा उस स्थान पर गिरा जो आज कुंजापुरी के नाम से जाना जाता है। इसे शक्तिपीठों में गिना जाता है।

और पढ़ें  "उत्तराखण्ड भूकम्प एलर्ट" एप हुआ लांच, ऐसा एप बनाने वाला उत्तराखण्ड पहला राज्य।

“ॐ श्री दुर्गायै नमः”

दीप

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *