अब केंद्र ने भी लिया चारधाम की अव्यवस्थाओं का संज्ञान,आईटीबीपी और एनडीआरएफ तैनात करने के दिये निर्देश।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

संवादसूत्र देहरादून: अब तक चारधाम की यात्रा पर आए करीब 26 लोग अपनी जान गवा बैठे हैं,, बृहद स्तर पर संचालित हो यात्रा परन्तु पर्याप्त व्यवस्थाएं ना होने के चलते केंद्र सरकार हरकत में आ गई है। उत्तराखंड सरकार के इस फैसले पर केंद्र सरकार हरकत में आ गई है यही नहीं, चारधाम क्षेत्रों में लगातार हो रही मौतों के बाद केंद्र सरकार ने राज्य सरकार को सख्त निर्देश दिए हैं। साथ ही चारों धामों में आईटीबीपी और एनडीआरएफ तैनात करने के भी केंद्र सरकार ने निर्देश दिए है।

पिछले 2 साल से वैश्विक महामारी कोरोना संक्रमण के दशक के बाद चारधाम की यात्रा सीमित और कम समय के लिए संचालित हुई थी। लिहाजा इस साल कोरोना संक्रमण के मामले में काफी कमी देखी जा रही है जिसके चलते राज्य सरकार वृहद स्तर पर चारधाम यात्रा को संचालित करना चाहती है। हालांकि, चारधाम पर आने वाले श्रद्धालुओं की संख्या तेजी से बढ़ती जा रही है। वर्तमान समय में अभी तक 2 लाख से अधिक श्रद्धालु चारधाम के दर्शन कर चुके हैं। तो वही 10 लाख से अधिक श्रद्धालु चार धाम की यात्रा पर आने के लिए अपना रजिस्ट्रेशन करवा चुके हैं।

और पढ़ें  शिक्षा सचिव ने शिक्षा विभाग से 7 बिंदुओं में मांगी बड़ी जानकारी।

वहीं, उत्तराखंड के मुख्य सचिव एसएस संधू ने बताया कि केंद्र सरकार ने चार धामों में आईटीबीपी और एनडीआरएफ की टीम में तैनात करने के निर्देश दिए हैं लिहाजा अगर जरूरत पड़ी तो यात्रियों की जान माल की सुरक्षा के दृष्टिगत आर्मी की मेडिकल टीमों को भी तैनात किया जा सकता है। सही कहा कि सरकार की तमाम व्यवस्थाएं मुकम्मल है स्वास्थ्य की टीम में जगह जगह पर तैनात की गई हैं। बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के निर्देश के बाद केंद्र सरकार उत्तराखंड में पूरी तरह से सक्रिय हो गई है। हालांकि, बीते दिन चार धाम में हो रहे मौतों के आंकड़े को लेकर पीएम ने इलाज सरकार को तलब किया था।