राज्य में पहली बार तीन दिवसीय “काव्य महाकुंभ” का आयोजन।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

संवादसूत्र देहरादून: उत्तराखंड की जिया साहित्यिक कुटुंब के तत्वाधान में देवभूमि उत्तराखंड में पहली बार तीन दिवसीय (7,8,औतमर 9 मई) काव्य महाकुंभ का आयोजन किया जा रहा है। इस ऐतिहासिक काव्य महाकुंभ जिसमें अनेक राज्यों से वरिष्ठ कवि कवित्रियों की कलम आहुति देगी।


“उत्तराखंड की जिया साहित्य कुटुंब” की संस्थापिका ज़िया हिंद्वाल “गीत” ने बताया कि उनकी यह संस्था अक्सर ही कई कवि सम्मेलन राज्य और राज्य से बाहर के अन्य राज्यों में आयोजित करती रहती है,,उनका मकसद नये रचनाकारों को मंच प्रदान कर उनकी प्रतिभा को निखारना होता है,,इस बार आयोजन बहुत बड़े लेबल पर किया जा रहा, उन्होंने कहा कि राज्य में इस तरह पहला आयोजन है।

और पढ़ें  बूथ के काकार्यकर्ता भाजपा की असली रीढ- नड्डा।

इस काव्य महाकुंभ में दिल्ली,मुम्बई,राजस्थान,यू पी,छत्तीसगढ़,कानपुर,भरतपुर बिहार तथा अन्य क्षेत्रों से वरिष्ठ कवि शामिल होंगे।

जिया हिन्दवाल द्वारा शामिल होने वाले रचनाकारों को दी गई कार्यक्रम की रूप रेखा इस तरह है,,

रजिस्ट्रेशन की अंतिम तिथि 30 April

1- दो सत्र में काव्य पाठ होगा।
10से 1 बजे और 2 से समाप्ति तक
2- विश्राम व भोज की उचित व्यवस्था है।
3-आपको 7 मिनट का वक्त मिलेगा काव्यपाठ के लिए।
4- पहले सत्र में काव्य पाठ करने वाले रचनाकार वापसी कर सकते है। लेकिन दूसरे सत्र के रचनाकार अगली सुबह ही प्रस्थान कर सकेंगे। जिससे सभी को सुना व सराहा जा सके।
5- सभी पर्याप्त समय ले कर आए।