श्री गंगोत्री धाम के कपाट शीतकाल हेतु बंद हुए।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें


• मां गंगा जी की उत्सव डोली पहुंचेगी शीतकालीन गद्दीस्थल मुखवा।

• कल 6 नवंबर को बंद होगे श्री केदारनाथ धाम एवं श्री यमुनोत्री धाम के कपाट।

• 20 नवंबर को श्री बदरीनाथ धाम के कपाट शीतकाल हेतु बंद हो जायेंगे।

संवादसूत्र गंगोत्री/ उत्तरकाशी/ देहरादून : उत्तराखंड चारधाम में एक श्री गंगोत्री धाम के कपाट आज गोवर्धन पूजा के दिन पूर्वाह्न 11 बजकर 45 मिनट पर बंद हो गये।
गंगोत्री मंदिर समिति के तीर्थ पुरोहितों एवं आचार्यगणों की उपस्थिति में कपाट विधि-विधान से कपाट बंद हुए इस अवसर पर बड़ी संख्या में तीर्थयात्री एवं स्थानीय लोग मौजूद रहे। कपाट बंद होने के बाद मां गंगा की उत्सव डोली विभिन्न पड़ावों से होते हुए शीतकालीन गद्दीस्थल मुखवा पहुंचेगी। तीर्थ पुरोहितों के हवाले से यह जानकारी मिली है। जिलाधिकारी उत्तरकाशी श्री मयूर दीक्षित ने बताया कि इस यात्रा वर्ष 32948 से अधिक तीर्थयात्री गंगोत्री धाम दर्शन के दर्शन किये। कोरोना काल के बावजूद यात्रा में तीर्थयात्रियों के आने का क्रम जारी रहा। यात्रा ब्यवस्थाओं को ब्यवस्थित बनाया गया।
उत्तराखंड चारधाम देवस्थानम प्रबंधन बोर्ड के मीडिया प्रभारी डा. हरीश गौड़ ने बताया कि आज शुक्रवार गोवर्धन पूजा/ अन्नकूट पूजा के दिन श्री गंगोत्री धाम के कपाट बंद होने के बाद कल शनिवार प्रात: भैया दूज यम द्वितीया पर श्री केदारनाथ धाम एवं श्री यमुनोत्री धाम के कपाट बंद हो जायेंगे।
श्री केदारनाथ भगवान की उत्सव डोली शीतकालीन गद्दीस्थल श्री ओंकारेश्वर मंदिर उखीमठ पहुंचेगी।
इसी तरह श्री यमुनोत्री माता की उत्सव डोली शीतकालीन गद्दीस्थल खरसाली पहुंचेगी।
जबकि श्री बदरीनाथ धाम के कपाट 20 नवंबर को शीतकाल हेतु बंद हो जायेंगे। बताया कि अभी तक साढ़े चार लाख तीर्थयात्री उत्तराखंड चारधाम पहुंच गये है।

Leave a Reply

Your email address will not be published.