कागज की गड्डी कमाकर नगदी ठगने वाले छह शातिर गिरफ्तार।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें


संवादसूत्र देहरादून/ऋषिकेश: कागज की गड्डी को असली नोटों की गड्डी बताकर बैंक में आए ग्राहकों के साथ ठगी करने वाले एक गिरोह के छह शातिर सदस्य ऋषिकेश कोतवाली पुलिस के हत्थे चढ़े हैं। उनके कब्जे से पुलिस ने 69 हजार रुपए की नगदी व एक कार बरामद की है।
इस मामले में चंद्रभागा ऋषिकेश निवासी रोहित राजभर पुत्र सूरज राजभर ने ऋषिकेश कोतवाली पुलिस को बीते रोज लिखित शिकायत दी थी। रोहित ने बताया कि वह ऋषिकेश बाजार में अमरीक सिंह की दुकान पर काम करता है।बुधवार की सुबह 10:00 बजे दुकान स्वामी अमरीक सिंह ने उसे 73 हजार रुपए पंजाब नेशनल बैंक में जमा करने के लिए दिए थे। जब वह बैंक में पहुंचा तो बैंक के भीतर कुछ व्यक्तियों ने उसे अपनी बातों में उलझा दिया। उसे एक कागज की गड्डी असली नोटों की गड्डी बताकर थमा दी और उसके 34 हजार रुपए ठग लिए। जब उसे ठगी का पता चला तो बैंक और बैंक के बाहर से उक्त लोग आए थे। इस मामले में पुलिस ने मुकदमा दर्ज कर घटना की छानबीन शुरू की। गुरुवार को ऋषिकेश कोतवाली में आयोजित पुलिस उपाधीक्षक डीसी ढौंडियाल ने घटना का पर्दाफाश किया। उन्होंने बताया कि पुलिस टीम ने सीसीटीवी की मदद से आरोपितों की पहचान कर उनकी धरपकड़ के लिए प्रयास किए। मुखबिर की सूचना पर पुलिस ने देहरादून मार्ग फ्लाईओवर के पास से एक ब्रेजा कार (डीएल 5सीबी- 8163) को रोककर उसमें सवार छह आरोपितों को गिरफ्तार किया। जिनमें पिंटू पुत्र रामनाथ निवासी ग्राम धर्म बागी नराव, थाना अवतार नगर, छपरा बिहार, हाल निवासी लक्ष्मी नगर अक्षरधाम दिल्ली, प्रकाश पुत्र लालाराम निवासी ग्राम सिरसा थाना बिल्सी बदायूं, उत्तर प्रदेश हाल निवासी करावल नगर दिल्ली, सोनू पुत्र राजाराम निवासी मकान नंबर 10 वेस्ट कमल विहार करावल नगर दिल्ली, अंसार पुत्र अब्दुल गफ्फार निवासी कर्बला थाना दक्षिण जिला फिरोजाबाद उत्तर प्रदेश हाल निवासी करावल नगर दिल्ली, पंकज कुमार पुत्र पप्पू साहू निवासी हर्ष विहार चेतना पब्लिक विद्यालय थाना साहिबाबाद गाजियाबाद उत्तर प्रदेश तथा ऋषि पाल सिंह पुत्र उदय सिंह निवासी वेस्ट कमल विहार थाना करावल नगर दिल्ली 94 बताया। उन्होंने बताया कि आरोपियों के कब्जे से ठगे गए 34 हजार रुपए 35 हजार रुपए सहित कुल 69 हजार रुपए की नगदी बरामद की गई है। पुलिस ने ठगी में प्रयुक्त ब्रेजा कार को भी सील कर दिया है।