सुमना ग्लेशियर हादसे: 384 लोगों को सुरक्षित निकाला गया ।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

सुमना हादसे में 384 लेबर सेना व आईटीबीपी कैंपो में सुरक्षित

-मुख्यमंत्री ने इलाके का हवाई सर्वेक्षण के बाद चमोली में मीडियाकर्मियों से बातचीत में दी जानकारी

-सेना, आईटीबीपी समेत एसडीआरएफ, एनडीआरएफ व जिला प्रशासन राहत बचाव में जुटा

संवाद सूत्र देहरादून/चमोली : मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत ने आज जोशीमठ के सुमना में ग्लेशियर टूटने वाले क्षेत्र का हवाई सर्वेक्षण कर स्थिति का जायजा लिया। हवाई सर्वेक्षण व सेना के अधिकारियों से जानकारी लेने के बाद मुख्यमंत्री श्री तीरथ सिंह रावत जी ने चमोली में मीडियाकर्मियों से बातचीत में कहा कि सुमना में जहां पर ग्लेशियर टूटा वहां पर बीआरओ के लगभग 400 लेबर काम कर रहे थे। मुख्यमंत्री जी ने बताया कि इनमें से कुल 384 लोग सेना व आईटीबीपी के कैम्पों तक पहुँच गए हैं और पूरी तरह से सुरक्षित हैं। मुख्यमंत्री जी ने बताया कि इस हादसे में 8 मजदूरों के मारे जाने की जानकारी मिली है जबकि 6 लोग घायल हैं। 

और पढ़ें  अगले छः महीने तक हड़ताल पर नहीं जा पाएंगे शिक्षक।

मुख्यमंत्री ने कहा कि मौके पर सेना, आईटीबीपी की टीमें राहत बचाव कार्य में जुटी हैं। एसडीआरएफ वहां पर आगे बढ़ी है और एनडीआरएफ की कुछ टीमें भी आगे बढ़ रही हैं। जिला प्रशासन भी शुक्रवार से ही पूरी मुस्तैदी से राहत-बचाव में जुट है। गाजियाबाद में भी एनडीआरएफ की टीमें अलर्ट मोड पर हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published.