पूर्व मुख्यमंत्री ने बजट को नयी सम्भावना से युक्त, सकारात्मक एवं दूरदर्शी बजट बताया।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

सँवादसूत्र देहरादून: उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री एवं पूर्व केंद्रीय शिक्षा मंत्री डॉ रमेश पोखरियाल निशंक ने लोकसभा में प्रस्तुत बजट का स्वागत किया ,उन्होंने बजट को नयी सम्भावना से युक्त, सकारात्मक एवम दूरदर्शी बजट बताया। उन्होंने इस बात पर प्रसन्नता प्रकट कीं क़ि 2020-21 में 7.3 प्रतिशत की गिरावट के बाद 2021-22 में भारतीय अर्थव्‍यवस्‍था के 9.3 प्रतिशत बढ़ने का अनुमान है।

अनुमानों के आधार पर भारत क़ी 2022-23 में जीडीपी की विकास दर 8 – 8.5 प्रतिशत रह सकती है।आर्थिक पुनरुद्धार को समर्थन देने के लिए आने वाले साल में वित्‍तीय प्रणाली के साथ निजी क्षेत्र के निवेश में बढ़ोतरी की संभावना जताते हुए डाक्टर निशंक ने कहा क़ि नव भारत के सपनो को साकार करने की दिशा में बजट मील का पत्थर साबित होगा ।
यह बजट भारत को आत्मनिर्भर बनाने के साथ स्वतंत्रता के 100वें वर्ष के नए भारत की सशक्त आधारशिला का निर्माण करेगा ।डॉ निशंक ने सारा श्रेय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण को देते हुए कहा क़ि यह बजट सम्पूर्ण देशवासियों के सपनों को प्रतिबिंबित करता है । डॉ निशंक ने कहा कि नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत fiscal deficit को 4.5 % से नीचे लाने में सफल होगा।

और पढ़ें  जल मिशन योजना में कोताही बरती जाने पर जनाक्रोश।

यह बजट सर्वांगीण, विकास को बढ़ावा देने वाला, रोजगार का सृजन करने वाला, गरीब को शक्ति, किसान को मजबूती, जीरो बजट खेती, प्राकृतिक खेती, रिवर लिंकिंग, एक स्टेशन-एक उत्पाद और किसान ड्रोन जैसे विभिन्न प्रयास हमारे किसान भाइयों को लाभ देने के साथ-साथ कृषि क्षेत्र को आधुनिक व आत्मनिर्भर बनाने,श्रमिकों को सम्मान, मध्यम वर्ग के सपनों को साकार करेगा

उन्होने बजट के माध्यम से इंफ्रास्ट्रक्टर निर्माण , ग्राम्य विकास, रोज़गार सृजन को गति और कृषि विकास को बल देने के नरेंद्र मोदी जी के संकल्प को साकार करने की बात कही । उन्होंने आगे बताया कि आत्मनिर्भर भारत का बजट कोरोना के बाद वैश्विक आर्थिक जगत में उत्पन्न हुए अवसरों का दोहन करके प्रधानमंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी के नेतृत्व में भारत को विश्व की अग्रणी अर्थव्यवस्था बनाने में सहायक होगा।

बजट न्यू इंडिया के लक्ष्यों की प्राप्ति में देश के 130 करोड़ लोगों को नई ऊर्जा देगा, ये बजट सर्वव्यापी, सर्वस्पर्शी और सर्व-समावेशी है । यह बजट सुशासन, गरीबी उन्मूलन, सामाजिक-आर्थिक परिवर्तन और रोजगार सृजन का नया अध्याय लिखने में महत्वपूर्ण योगदान देगा ।

और पढ़ें  जिस घर में तिरंगा न हो, लोग उन पर नहीं करेंगे विश्वास:भट्ट।

मुझे इस बात की खुशी है कि इस बजट में ढांचागत अवस्थापना विकास, स्वास्थ्य, रोजगार सृजन, आवास सामाजिक कल्याण, कृषक कल्याण, उच्च शिक्षा, नवाचार एवं अनुसंधान पर विशेष ध्यान केंद्रित किया गया है। वित्तीय समावेशन को बढ़ावा देने के लिए सभी 1.5 लाख डाकघरों को कोर बैंकिंग से जोड़ने से ग्रामीण क्षेत्र के लोगों और वरिष्ठ नागरिकों को बहुत लाभ मिलेगा।साथ ही डिजिटल भुगतान को प्रोत्साहित करने के लिए 75 जिलों में 75 डिजिटल बैंक भी स्थापित किये जाएंगे।

भारत के समग्र विकास की परिकल्पना को विकासोन्मुखी बजट से धरातल पर उतारने के लिए यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी और माननीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण जी को हार्दिक बधाई देते हुए डॉक्टर ने बताया कि नेशनल इन्फ्रास्ट्रक्चर पाइपलाइन के जरिए 7400 प्रोजेक्ट लाए जाएंगे। 13 सेक्टर्स के लिए प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेंटिव (PLI) स्कीम को लाया जाएगा।

और पढ़ें  हिमांचल में छाए उत्तराखण्ड के सीएम,जनसंपर्क कार्यक्रम में किया प्रतिभाग।

अगले 3 साल में देशभर में 7 टैक्सटाइल पार्क बनाए जाने की योजना का स्वागत किया । इन्फ्रास्ट्रक्चर से जुड़े प्रोजेक्ट की फंडिंग के लिए नया बैंक बनाया जाएगा। इससे देश में कारोबारी गतिविधियां बढ़ेंगी और रोजगार के मौके पैदा होंगे।
रेल, सड़क, बस और मेट्रो: सरकार ने रेल, बस, सड़क और मेट्रो को लेकर बड़े ऐलान किए गए हैं। शहरी इलाकों में 20 हजार नई बसें चलाई जाएंगी। टियर-2 शहरों में लाइट मेट्रो और नियो मेट्रो चलाई जाएंगी।इटारसी-विजयवाड़ा में फ्यूचर रेडी कॉरिडोर बनाया जाएगा।

अगले साल तक 8500 किलोमीटर के रोड प्रोजेक्ट शुरू होंगे। सड़क मंत्रालय को 1.18 लाख करोड़ रुपए, रेलवे को 1.1 लाख करोड़ रुपए मिले। रेल, सड़क, बस और मेट्रो: सरकार ने रेल, बस, सड़क और मेट्रो को लेकर बड़े ऐलान किए गए हैं। शहरी इलाकों में 20 हजार नई बसें चलाई जाएंगी। टियर-2 शहरों में लाइट मेट्रो और नियो मेट्रो चलाई जाएंगी। सड़क मंत्रालय को 1.18 लाख करोड़ रुपए, रेलवे को 1.1 लाख करोड़ रुपए से भारत के समग्र विकास को नयी गति मिलेगी।