जीआरडी वर्ल्ड स्कूल भाऊवाला बनेगा ‘सैनिक स्कूल’।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

संवादसूत्र देहरादून: रक्षा मंत्रालय ने शैक्षिणक सत्र 2022—23 के लिए 21 नए सैनिक स्कूल खोलने को मंजूरी दी है। इन स्कूलों का संचालन पीपीपी मोड पर होगा। रक्षा मंत्रालय संबंधित प्रदेश की सरकार अथवा प्राइवेट स्कूल या एनजीआे के साथ पीपीपी मोड पर सैनिक स्कूल का संचालन करेगा। गुणवत्ता युक्त शिक्षा के लिए देशभर के अलग—अलग जिलों में 100 नए सैनिक स्कूल खोलने की प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की घोषणा के क्रम में रक्षा मंत्रालय ने पहले चरण में इन नए सैनिक स्कूलों के संचालन को हरी झंडी दी है। उत्तराखंड के हिस्से भी एक सैनिक स्कूल आया है। देहरादून के भाऊवाला स्थित जीआरडी वल्र्ड स्कूल को इसके लिए चयनित किया गया है।

और पढ़ें  विशिष्ट कार्य के लिए पुलिस अधिकारियों को श्री राज्यपाल उत्कृष्ट सेवा पदक दिए जाने की घोषणा।

इन नए स्कूलों का संचालन सैनिक स्कूल सोसाइटी के नियमों के तहत होगा। अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित होने वाली प्रवेश परीक्षा में सफल रहने वाले छात्र-छात्राआें को कक्षा छह में प्रवेश मिलेगा। इस परीक्षा से 40 फीसद छात्रों का चयन प्रवेश के लिए किया जाएगा। जबकि 6 फीसद छात्र संबंधित स्कूल के ही रहेंगे, यदि वह सैनिक स्कूल सोसाइटी पैटर्न में प्रवेश लेना चाहते हैं। आगामी मई के पहले सप्ताह से इन नए सैनिक स्कूलों में शैक्षणिक सत्र शुरू होगा। बता दें कि राज्य में इससे पहले एक मात्र सैनिक स्कूल घोड़ाखाल था। जिसका पूरा संचालन रक्षा मंत्रालय करता है। हालांकि रुद्रप्रयाग जिले में भी सैनिक स्कूल खोलने की कवायद पिछले कई साल से चल रही है। इसको स्वीकृति भी मिल गई थी, पर कतिपय कारणों से मामला अब भी अधर में लटका हुआ है। सैनिक स्कूल में सिर्फ छात्रों को ही प्रवेश मिलता था, लेकिन पिछले सत्र से छात्राआें को भी प्रवेश मिलने लगा है। 

और पढ़ें  जल्द निकलेगा नीट का परिणाम,इंतजार में अभिभावक और छात्र।

12वीं उर्तीण करने वाले अधिकांश छात्रों का चयन एनडीए के लिए होता है। जिसके बाद वह सेना, नौसेना व वायुसेना में बतौर अधिकारी सैन्य पारी की शुरुआत करते हैं। आरआईएमसी की तरह सैनिक स्कूल में भी अपने ब”ाों का दाखिला करने के लिए अभिभावकों की दिली इ‘छा रहती है। लेकिन अखिल भारतीय स्तर पर आयोजित होने वाली प्रवेश परीक्षा और सीमित सीट के चलते चुनिंदा  छात्रों का ही चयन हो पाता है। प्रवेश के लिए आयु भी निर्धारित है। एेसे में एक और नया सैनिक स्कूल खुलने से राज्य के प्रतिभावान छात्रों को गुणवत्ता युक्त शिक्षा प्राप्त करने का अवसर तो मिलेगा ही, साथ ही सश सेना में करियर संवारने का शानदार मौका भी।

Leave a Reply

Your email address will not be published.