प्रधानमंत्री ने कोरोना के खिलाफ जारी टीकाकरण अभियान की समीक्षा की, दिए ये निर्देश।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को देश में चल रहे कोविड-19 टीकाकरण अभियान की समीक्षा की। वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए हुई इस बैठक में अधिकारियों ने देश में टीकाकरण की प्रगति पर प्रधानमंत्री को विस्तृत जानकारी दी।

संवादसूत्र नई दिल्‍ली: कोरोना वायरस के खिलाफ टीकाकरण अभियान की इस हफ्ते की रफ्तार पर संतोष जताते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने इसकी गति को बनाए रखने पर जोर दिया। देश में जारी टीकाकरण अभियान को और व्यापक बनाने के लिए प्रधानमंत्री ने इसमें गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) और अन्य संगठनों को शामिल करने की आवश्यकता को रेखांकित किया।

और पढ़ें  गृह मंत्रालय ने राज्यों को चिट्ठी लिख कोरोना के खिलाफ दिए ये 5 मंत्र।

टीकाकरण अभियान की प्रगति और कोरोना संक्रमण की ताजा स्थिति पर शीर्ष अधिकारियों के साथ शनिवार को प्रधानमंत्री की उच्च स्तरीय समीक्षा बैठक के बाद सरकार ने एक बयान में कहा कि पिछले छह दिनों में टीके की 3.77 करोड़ डोज दी गईं। इनको मिलाकर शनिवार रात दस बजे तक 31.62 करोड़ डोज लगाई जा चुकी हैं।

देश के 128 जिलों में 45 वर्ष से अधिक की आबादी के 50 प्रतिशत से अधिक लोगों का टीकाकरण किया गया है और 16 जिलों में इस आयु वर्ग के 90 प्रतिशत से अधिक लोगों का टीकाकरण किया गया है। वहीं, प्रधानमंत्री कार्यालय (पीएमओ) ने कहा, ‘छह दिनों में 3.77 करोड़ डोज दी गईं जो मलेशिया, सऊदी अरब और कनाडा जैसे देशों की पूरी आबादी से अधिक है।’

और पढ़ें  एक बार फिर देश में कोरोना ने पसारे पैर,कई छात्रों पर कोरोना का असर: देश में 30 दिन में 2400 स्टूडेंट पॉजिटिव।

पीएमओ के मुताबिक अधिकारियों ने प्रधानमंत्री से कहा कि वे टीकाकरण के लिए लोगों तक पहुंचने के लिए नए तरीकों का पता लगाने और उन्हें लागू करने के लिए राज्य सरकारों के संपर्क में हैं। अधिकारियों ने देश में टीकाकरण की प्रगति पर मोदी को एक विस्तृत प्रस्तुति दी और उन्हें आयु-वार टीकाकरण कवरेज के बारे में जानकारी दी गई।

और पढ़ें  बिग बॉस फेम और टीवी एक्टर सिद्धार्थ शुक्ला की हार्ट अटैक से मौत।

संक्रमण का पता लगाने और उसे रोकने के लिए जांच को सबसे महत्वपूर्ण बताते हुए प्रधानमंत्री ने अधिकारियों को राज्यों के साथ समन्वय यह सुनिश्चित करने को कहा कि किसी भी सूरत में जांच की गति कम ना होने पाए।

पीएमओ ने बताया कि मोदी को वैश्विक स्तर पर को-विन प्लेटफार्म में बढ़ती दिलचस्पी के बारे में भी बताया गया। प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि को-विन के रूप में भारत की समृद्ध तकनीकी विशेषज्ञता के साथ सभी देशों की मदद करने का प्रयास किया जाना चाहिए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.