पहाड़ का पानी और जवानी अब पहाड़ के काम आएगी: प्रधानमंत्री।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

संवादसूत्र देहरादून/गुप्तकाशी: केदारनाथ मंदिर के दर्शन के बाद प्रधानमंत्री मोदी ने अपने संबोधन में उत्तराखंड की विकास योजनाएं के बारे में बताया,वह बोले कि पहाड़ का पानी और जवानी अब पहाड़ के काम आएगी।
संबोधन में प्रधानमंत्री ने विकास कार्यों के बारे में भी बताया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज शुक्रवार को उत्तराखंड में केदारनाथ मंदिर के दर्शन को पहुंचे, वहां भोलेनाथ का रुद्राभिषेक करने के बाद पीएम मोदी ने जनता को संबोधित किया। मोदी के संबोधन का ज्यादातर हिस्सा वैसे अध्यात्म पर केंद्रित था, लेकिन राज्य में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों को देखते पीएम ने यहां अपनी सरकार की उपलब्धियां भी गिनाईं, प्रधानमंत्री ने उत्तराखंड के युवाओं से यह भी कहा कि अब पहाड़ का पानी और जवानी दोनों उत्तराखंड के काम आएंगे।
प्रधानमंत्री ने उत्तराखंड में हुए विकास कार्यों के बारे में कहा कि चारधाम सड़क परियोजना पर तेजी से काम हो रहा है, चारों धाम हाइवेज से जुड़ रहे हैं। आगे बताया गया कि भविष्य में यहां केदारनाथ तक श्रद्धालु केबल कार के जरिए आ सकें, इससे जुड़ी प्रक्रिया भी शुरू हो गई है। पीएम ने आगे कहा कि पास ही मैं मौजूद हेमकुंड साहिब के दर्शन आसान करने के लिए भी रोप-वे बनाने की तैयारी है।
उन्होंने कहा, “बरसों पहले जो नुकसान यहां हुआ था, वो अकल्पनीय था। जो लोग यहां आते थे, वो सोचते थे कि क्या ये हमारा केदार धाम फिर से उठ खड़ा होगा? लेकिन मेरे भीतर की आवाज कह रही थी की ये पहले से अधिक आन-बान-शान के साथ खड़ा होगा।”

और पढ़ें  जोशीमठ से आगे अलकनंदा ग्लेशिर फटने की सूचना

साथ ही उन्होंने युवाओं से की पलायन पर बात,वह बोले कि कहा जाता है कि पहाड़ का पानी, पहाड़ की जवानी कभी पहाड़ के काम नहीं आती, अब पानी भी पहाड़ के काम आएगा, जवानी भी पहाड़ के काम आएगी। उत्तराखंड से पलायन को रोकना है,अगला दशक उत्तराखंड का है,मोदी बोले यहां पर्यटन को काफी बढ़ने वाला है। यह दशक उत्तराखंड का है। अगले 10 वर्षों में, राज्य में पिछले 100 वर्षों की तुलना में अधिक पर्यटक आयेगे।
प्रधानमंत्री ने अपने संबोधन में दूसरे धार्मिक स्थानों का भी जिक्र किया। वह बोले कि अब हमारी सांस्कृतिक विरासतों को, आस्था के केन्द्रों को उसी गौरवभाव से देखा जा रहा है, जैसा देखा जाना चाहिए,वह बोले कि अयोध्या को उसका गौरव वापस मिल रहा है. यहां उन्होंने अयोध्या में हुए दीपोत्सव के आयोजन का भी जिक्र किया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *