तारणी नौका से दुनिया का चक्कर लगाने वाली वर्तिका का सेवानिवृत्ति पर स्वागत।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

संवादसूत्र देहरादून/ऋषिकेश: भारतीय नौसेना मैडल से सम्मानित भारतीय नौसेना लेफ्टिनेंट कमांडर वर्तिका जोशी का सेवानिवृत्त होने पर तीर्थनगरी में जोरदार स्वागत किया गया। वर्तिका ने 2017 में भारतीय नौ सेना के महत्वपूर्ण नाविका सागर परिक्रमा अभियान दल का नेतृत्व कर छह सदस्यीय दल के साथ दुनिया का चक्कर लगाया था।
अग्रसेन नगर निवासी वर्तिका जोशी वर्ष 2010 में नोसेना अधिकारी बनी थी। वर्तिका ने अपने एक दशक से अधिक के कार्यकाल में बड़ी उपलब्धियां हासिल की। वर्ष 2017 में नौ सेना की महिला अधिकारियों का छह सदस्यीय दल ने पाल नौका आइएनएसवी (इंडियन नेवल सेलिंग वेसल) तारणी से पूरी दुनिया का चक्कर लगाया था। दुनिया में अपनी तरह के इस पहले अभियान का सफल नेतृत्व वर्तिका जोशी ने ही किया था। जिसके लिए उनको नो सेना मैडल, साहसिक खेल पुरुस्कार, नारी शक्ति पुरस्कार सहित कई अन्य पुरस्कारों से सम्मानित किया जा चुका है। वर्तिका जोशी अब सेवानिवृत्त होकर घर वापस आई हैं। अग्रसेन नगर सोसायटी की ओर से उनका भव्य स्वागत किया गया। सोसाइटी के अध्यक्ष पूर्व उच्च शिक्षा निदेशक डा. एनपी महेश्वरी एवं समाजसेवी डा. राजे नेगी ने सेवानिवृत्त होकर लोटी वर्तिका को पुष्पगुच्छ, शाल ओढ़ाकर एवं भगवत गीता भेंटकर स्वागत किया। इस मौके पर वर्तिका के पिता सेवानिवृत्त प्रोफेसर प्रदीप जोशी, माता प्रोफेसर अल्पना जोशी, दिलबर सिंह रावत, डा. गौरव भल्ला, वीपी सिंह, संदीप सक्सेना, एससी गुप्ता, नेहा भल्ला, एके सिंह, जेपी बहुखंडी, हरि प्रसाद काप्टियाल, बीआर गुलियानी, अंकुर टिबरवाल आादि मौजूद रहे।