स्मरण विश्वकर्मा का।

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

विश्वकर्मा दिवस (17 सिंतबर)

ध्रुव गुप्त

प्राचीन आर्य संस्कृति के विकास में जिस तरह आर्य ऋषियों की भूमिका रही थी, वैसी ही भूमिका आर्य सभ्यता के निर्माण में उस युग के वास्तुकारों और यंत्र निर्माताओं ने निभाई थी। पुराणों ने जिस एक व्यक्ति को आर्य सभ्यता के विकास का सर्वाधिक श्रेय दिया है, वे हैं विश्वकर्मा। उन्हें जीवन के लिए उपयोगी बहुत सारी संरचनाओं – कुआं, बावड़ी, जलयान, कृषि यन्त्र, आभूषण, भोजन-पात्र, रथ आदि का अविष्कारक माना जाता है। अस्त्र-शस्त्रों में उन्होंने कर्ण के रक्षा कुंडल, विष्णु के सुदर्शन चक्र, शिव के त्रिशूल, यम के कालदंड का निर्माण किया था। भवन निर्माण के क्षेत्र में उनकी कई उपलब्धियों में इंद्रपुरी, वरुणपुरी, कुबेरपुरी, सुदामापुरी, द्वारिका, हस्तिनापुर नगरों का निर्माण शामिल है। पुराणों में उनके समकक्ष आर्येतर जातियों के एक और महान वास्तुकार मयासुर का उल्लेख है। मयासुर ने त्रेता युग में सोने की लंका और द्वापर में पांडवों के वैभवशाली नगर इंद्रप्रस्थ का निर्माण किया था। मय ने ही त्रिपुर के नाम से प्रसिद्द सोने, चांदी और लोहे के तीन नगरों की रचना की थी जिन्हें बाद में भगवान शिव द्वारा ध्वस्त किया गया। एक प्रश्न अक्सर पूछा जाता है कि विश्वकर्मा और मयासुर की उपस्थिति राम के त्रेता युग से कृष्ण के द्वापर युग तक कैसे संभव हो सकता है।

और पढ़ें  एक वादा खुद से करें आज....

इसका समाधान यह है कि जैसे विश्वामित्र, परशुराम, व्यास आदि प्राचीन ऋषियों के जाने के बाद उनके नाम से उनकी शिष्य परंपराएं युगों तक चलीं, वैसे ही विश्वकर्मा और मय की वंश और शिष्य परंपराएं उनके नाम से युगों तक अनुसंधान और निर्माण कार्य में लगी रहीं। यह और बात है कि आर्येतर होने की वज़ह से विश्वकर्मा के समकक्ष दूसरे महान अभियंता मयासुर और उनकी शिष्य परंपरा को पुराणकारों द्वारा अपेक्षित सम्मान नहीं दिया गया।

Leave a Reply

Your email address will not be published.