एकांत प्रेम का रहस्यमय स्मारक !

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

ध्रुव गुप्त

वैसे तो दुनिया में प्रेम के कई चर्चित और अचर्चित स्मारक हैं, लेकिन हाल के वर्षों में प्रेम के जिस एक स्मारक ने दुनिया भर के प्रेमियों और वास्तुकला के विशेषज्ञों का ध्यान आकृष्ट किया है वह है अमेरिका का फ्लोरिडा स्थित कोरल कैसल। कोरल के सैकड़ों टन भारी-भारी चट्टानों से बना यह शानदार और रहस्यमय स्मारक पिछली सदी में सिर्फ एक व्यक्ति के तीस वर्षों के प्रयास और समर्पण से बनकर तैयार हुआ था। इस हैरतअंगेज संरचना को मेमोरियल ऑफ लॉस्ट लव यानी खोए हुए प्यार का स्मारक भी कहते हैं। इस कैसल का निर्माण एक लातवियाई आप्रवासी एडवर्ड लीडस्कालनिन ने करीब 1,000 मीट्रिक टन कोरल की चट्टानों के उपयोग से किया था। दिखने में ठिगने और बहुत दुबले-पतले एडवर्ड के बारे में कहा जाता है कि उसे अपनी सोलह साल की प्रेमिका एग्नेस से बेहद प्यार था। दोनों ने शादी के बंधन में बंधने का फैसला किया, लेकिन एन शादी के के वक़्त एग्नेस ने उसे धोखा दे दिया। अपना टूटा दिल लेकर एडवर्ड घर छोड़कर यहां-वहां भटकता रहा। 1923 में फ्लोरिडा पहुंचकर उसने तय किया कि अपना शेष जीवन वह अपनी बेवफ़ा प्रेमिका की स्मृतियों को जीवित रखने के लिए एक भव्य स्मारक के निर्माण को समर्पित कर देगा। 1923 से 1951 में अपनी मृत्यु तक उसने यही काम किया। अकेले दम पर। इस स्मारक को उसने रॉक गेट गार्डन नाम दिया था। कहा जाता है कि अर्द्धशिक्षित एड ने आज इंजीनियरिंग के लिए आश्चर्य बने इस निर्माण का काम बिना किसी बाहरी सहायता के अपने हाथों से किया था। निर्माण के समय उसकी रहस्यमयता बनाए रखने के लिए उसने किसी को परिसर में घुसने तक नहीं दिया। यही कारण है कि इस संरचना के बारे में धीरे-धीरे कुछ चमत्कारिक कथाएं जुड़ती चली गई। कहा जाता है कि एडवर्ड के पास कुछ अलौकिक शक्तियां थीं जिनके इस्तेमाल से यह निर्माण संभव हुआ।

और पढ़ें  हम तेरी गलियों में "मौसम" के बहाने आएंगे।

अब यह तो पता नहीं कि एडवर्ड की प्रेमिका एग्नेस ने उसके एकनिष्ठ और एकांत प्रेम के इस जीवंत स्मारक को कभी देखा था अथवा नहीं, मगर कोरल कैसल अपनी भव्यता, विशालता, रहस्यमयता और अपने भीतर छुपी प्रेम की गहन संवेदना के कारण आज अमेरिका ही नहीं, दुनिया भर के प्रेमियों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है।

और पढ़ें  लता होने का अर्थ

ध्रुव गुप्त (पूर्व आईपीएस, प्रसिद्ध साहित्यकार और कवि), पटना (बिहार)

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *