विश्व धरोहर दिवस (18 अप्रैल)

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

नीरज कृष्ण

धरोहर / विरासत हमारे दैनिक जीवन में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह हमारे परिवर्तन की यात्रा का प्रमाण है। हम अपनी समृद्ध विरासत से जुड़कर अपने भविष्य पर अधिक प्रभाव प्राप्त कने के लिए अपने अतीत से सीखते हैं। विरासत का संरक्षण विभिन्न पहलुओं की एक महत्वपूर्ण कड़ी है। सांस्कृतिक विरासत भौतिक विज्ञान की कलाकृतियों और एक समूह या समाज की अमूर्त विशेषताओं की विरासत है जो पिछली पीढयों से विरासत में मिली है, वर्तमान में बनाए रखी गई है और भविष्य की पीढयें के लाभ के लिए प्रदान की गई है। सांस्कृतिक विरासत एक समुदाय द्वारा विकसित जीवन जीने के तरीकों की अभिव्यक्ति है ओर एक पीढ़ी से दूसरी पीढ़ी तक चली जाती है जिसमें रीति-रिवाजों, प्रथाओं, वस्तुओं, कलात्मक अभिव्यक्तियों, मूल्यों आदि को शामिल किया जाता हैं।

और पढ़ें  सलीम अली तुम लौट आओगे ना !

भारत में विरासत की विविधता और विविधता विभिन्न समुदायों के बीच मौजूद संबंधों की प्रकृति को दर्शाती है। उन्होंने एक दूसरे से उधार लिया, जैसे उत्तरी और दक्षिणी भारत की मंदिर वास्तुकला। समुदायों की पहचान भी बहुत गतिशील रही है और विचारों का आदान-प्रदान सुचारू था। यह हमारी विरासत से पता चलता है। यह यह भी दर्शाता है कि मानव सभ्यता पर मनुष्य के बीच संघर्षो का कितना कठोर प्रभाव पड़ता है। हमारे समाज की कमियों को समय-समय पर चुनौती दी गई, चाहे वह छठी शताब्दी ईसा पूर्व में बौद्ध धर्म के उदय के दौरान हो या मध्यकाल में भक्ति आंदोलन के दौरान।

हड़प्पा सभ्यता के दौरान वैवाहिक समाज के अस्तित्व, वैदिक युग से वसुधैव कुटुम्बकम की अवधारणा, अशोक के धम्म के तहत बड़ों के लिए सम्मान आदि के साथ एक समृद्ध सांस्कृतिक विरासत पर प्रकाश डाला गया है। यह नैतिकता और नैतिकता की संस्कृति को विकसित करने में मदद करता है। इस विरासत को संरक्षित करने के प्रयासों से हमें अपनी सांस्कृतिक परंपरा को मजबूत करने में मदद मिलती है।

और पढ़ें  भूस्खलन में होने वाली तबाही से बचाव हेतु पहाड़ी क्षेत्रों के लिये अलग रणनीति जरुरी।

नालंदा विश्वविद्यालय को पुनर्जीवित करने के प्रयास और अन्य देशों, विशेष रूप से दक्षिण एशियाई देशों से प्राप्त समर्थन हमारी समृद्ध शैक्षिक विरासत को दर्शाता है। अजंता, एलोरा की गुफाओं में चित्र हमारी समृद्ध विरासत के सौंदर्य पहलुओं पर प्रकाश डालते हैं। रामायण और गीता की शिक्षाएं जो इंमानदारी, अखंडता जैसे मूल्यों पर जोर देती हैं; युवाओं को कड़ी मेहनत करने के लिए प्रेरित करने वाले स्वामी विवेकानंद के पाठ, गांधी के अहिंसा के सुसमाचार आदि हमें मूल्य-आधारित जीवन जीने के लिए प्रेरित प्रेरित रहने की भावना पैदा होती है।

खिलजी काल के दौरान बाजार में सुधार, अर्थशास्त्र में उजागर आर्थिक प्रशासनिक प्रणाली, भारत और अन्य देशों के बीच विशाल व्यापार, विशेष रूप से पश्चिम एशिया और दक्षिण पूर्व एशियाई देशों आदि के साथ-साथ हम्पी जैसे ऐतिहासिक स्थानों से जुड़े पर्यटन क्षेत्र यह दर्शाता है कि स्मारकों की विरासत को कैसे संरक्षित किया जाता है और परंपराओं से हमारी अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिल सकता है। अर्थव्यवस्था को बढ़ावा मिल सकता है।

और पढ़ें  पिताजी तुम भी ना...

इस प्रकार, हमारी विरासत के महत्व को देखते हुए इसे समन्वित तरीके से संरक्षित करने की आवश्यकता है। सरकार और नागरिकों को समान रूप से जिम्मेदारी वहन करनी चाहिए। गंभीर प्रयास किए जाने चाहिए। भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण के तहत ऐतिहासिक स्मारकों के संरक्षण और संरक्षण जैसे संस्थान इस संबंध में बहुत कुछ नहीं कर रहे हैं। इसके अलावा विरासत की सुरक्षा आँख बंद करके नहीं की जानी चाहिए।

नीरज कृष्ण
एडवोकेट पटना हाई कोर्ट
पटना (बिहार)

Leave a Reply

Your email address will not be published.