“बसंत पंचमी त्यवार”

ख़बर शेयर कर सपोर्ट करें

(हरदेव नेगी)


सार्यूं पसरी गे पिंगळी बहार,
बौड़ी एैग्ये पंचमी त्यवार,
म्वोर संगार जौउ लगाला,
गौं -गौं बरमा जी पंचमी बाँचला।।
.
दिशा ध्यांण मैतुड़ा आईं होली,
खुदेड़ घुघती बासंणी होली,
क्यदार की कांठ्यों ह्यूँ चमकुणु होलु,
यखि कखी म्येरु मन कबळांणु होलु।।
.
अपड़ी -अपड़ी बिरत्यूँ मा औजी जाला,
पँचमी की डड्वार तौं सणी द्यूला,
तौं तैली सार्यूं फ्योंलि हैंसड़ी चा,
घर की ड्येळी मा घिंदूड़ी हैंसड़ी चा।।।

और पढ़ें  अद्वितीय अभिनेता के अनसुने किस्से....अलविदा दिलीप साहब।

हरदेव नेगी,गुप्तकाशी(रुद्रपयाग)

Leave a Reply

Your email address will not be published.